आधार लिंक की डेडलाइन को 31 मार्च से बढ़ाने की तैयारी में UIDAI SC के फैसले पर नजर

January 16, 2018, 12:19 PMYug Jagran
image

युग जागरण न्यूज़ नेटवर्क
आधार नंबर को जारी करने वाली संस्था यूनिक आईडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) जल्द ही इसकी डेडलाइन बढ़ा सकती है। अभी बैंक अकाउंट पैन कार्ड मोबाइल और अन्य सभी सोशल सिक्युरिटी स्कीम के लिए आधार को लिंक कराने की आखिरी तारीख 31 मार्च है। इसको अब आगे बढ़ाकर 1 अगस्त किया जा सकता है। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद बढ़ेगी डेडलाइन यूआईडीएआई सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद डेडलाइन बढ़ाने पर विचार करेगा। इसके लिए यूआईडीएआई के अधिकारी आरबीआई दूरसंचार नियामक प्राधिकरण और अन्य मंत्रालयों के साथ विचार-विमर्श करेगा। अभी पैन कार्ड और बैंक अकाउंट के लिए इनकम टैक्स एक्ट और पीएमएलए एक्ट के तहत आधार नंबर देना जरूरी कर दिया गया है। इसलिए बढ़ेगी डेडलाइन यूआईडीएआई ने सोमवार को ही आधार डिटेल्स को और सुरक्षित करने के लिए एक और सेफ्टी फीचर लॉन्च करने की घोषणा की थी। यूआईडीएआई ने कहा है कि अब लोगों की आधार डिटेल्स को उनके चेहरे के जरिए भी मैच किया जा सकेगा।इसके लिए अथॉरिटी ने अलग से एक सॉफ्टवेयर लॉन्च किया है जो 1 जुलाई से प्रभावी हो जाएगा। यूआईडीएआई के सीईओ अजय भूषण पांडेय ने इसकी जानकारी ट्वीट के माध्यम से दी। इसके लिए चेहरे के साथ ही ओटीपी आंखों की पुतलियों या फिर फिंगरप्रिंट से मैच किया जा सकेगा।
देना होगा केवल वर्चुअल नंबर
आधार धारकों की निजता और सुरक्षा को और मजबूत बनाने के लिए यूआईडीएआई आधार धारकों के लिए वर्चुअल आईडी लाने जा रहा है। आईडीएआई आधार कार्ड धारकों को वर्चुअल आईडी जारी करेगा। यूआईडीएआई के मुताबिक इससे आधार कार्ड धारकों को किसी भी सत्यापन के लिए अपने आधार नंबर देन की जरूरत नहीं पड़ेगी। सत्यापन के लिए उन्हें सिर्फ अपने वर्चुअल नंबर का इस्तेमाल करना पड़ेगा। यूआईडीएआई की इस पहल का असर ये होगा कि इससे वो एजेंसी बाहर हो जाएंगी जो आधार नंबर स्टोरेज करती हैं। सभी एजेंसी को नई व्यवस्था को 1 जून 2018 तक लागू करना होगा। कुछ दिनों पहले ही एक अंग्रेजी अखबार ने अपनी खबर में आधार डाटा को बेचे जाने का दावा किया है। अखबार ने व्हॉट्सऐप पर एक गुमनाम विक्रेता से एक सेवा खरीदने का दावा किया है। यह विक्रेता मजह 500 रुपये अदा करने पर देश में अब तक बने 1 अरब आधार कार्ड की जानकारी को निर्बाध रूप से मुहैया कराता है। इस जानकारी में आधार कार्ड बनवाने वाले का नाम पता पिन नंबर फोटो फोन नंबर और ईमेल आईडी शामिल हैं।

अपनी प्रतिक्रिया दें

महत्वपूर्ण सूचना

भारत सरकार की नई आईटी पॉलिसी के तहत किसी भी विषय/ व्यक्ति विशेष, समुदाय, धर्म तथा देश के विरुद्ध आपत्तिजनक टिप्पणी दंडनीय अपराध है। इस प्रकार की टिप्पणी पर कानूनी कार्रवाई (सजा या अर्थदंड अथवा दोनों) का प्रावधान है। अत: इस फोरम में भेजे गए किसी भी टिप्पणी की जिम्मेदारी पूर्णत: लेखक की होगी।

Related Posts you may like

cctv lucknow

आपका शहर

विज्ञापन

mison 2017

Like us on Facebook

विज्ञापन

mison 2017